Himachal Housing Scheme 2017 : Online Apply And Full Details

In Himachal more than 2 lakh 30 thousand people with the dream of their own home will be coming true in the upcoming five years. Urban Development Department has started work on the scheme to provide home to two lakh 30 thousand people in 41 cities.

आने वाले पांच सालों में प्रदेश में दो लाख 30 हजार से अधिक लोगों का खुद के घर का सपना साकार होगा। शहरी विकास विभाग ने 41 शहरों के दो लाख 30 हजार लोगों को घर की सुविधा प्रदान करने की योजना पर काम शुरू हो गया है।

The department will select the company on to prepare the plan. For this, the department has sought applications. The selected company has to make a plan to build a house for the people. Two lakh 30 thousand beneficiaries have been selected under the Prime Minister’s housing scheme of the Central Government.

योजना तैयार करने के लिए विभाग सोमवार को कंपनी का चयन करेगा। इसके लिए विभाग ने आवेदन मांगे हैं। चयनित कंपनी को लोगों के लिए घर बनाने का प्लान तैयार करके देना है। केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत दो लाख 30 हजार लाभार्थियों का चयन किया गया है।

The plan will be implemented on PPP mode. The private builder or government agency will make the people living there in the same place in the fixed time period. The state government will also be allowed to use the mix as well as commercial and residential use of the remaining land. Displacement of people living in slums will be responsible for the construction agency. The corporation and the municipalities will be responsible for vacating the slotted slum.

Public-private partnership (PPP) is a funding mode for a public infrastructure project.

पीपीपी मोड पर योजना को लागू किया जाएगा। प्राइवेट बिल्डर या सरकारी एजेंसी वहां रहने वाले लोगों को उसी जगह पर निश्चित समय अवधि में मकान बनाकर देगी। बची हुई जमीन के कमर्शियल व रेसीडेंशियल उपयोग के साथ ही मिक्स उपयोग करने की छूट भी राज्य सरकार देगी। स्लम में रहने वाले लोगों के विस्थापन की जिम्मेदारी संबंधित निर्माण एजेंसी की होगी। चिन्हित स्लम को खाली कराकर देने की जिम्मेदारी निगम व पालिकाओं की होगी ।

Click here to Visit the Official website for more details.

Urban Development Department will provide all the beneficiaries selected as per their convenience. For this, the central government has released its guidelines. The benefits of home facility are being provided to the people in the state whose annual income limit is not more than three lakhs. Apart from this, the person concerned should not have a permanent home of himself.

शहरी विकास विभाग चयनित सभी लाभार्थियों को उनकी सुविधा के अनुसार घर प्रदान करेगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने अपनी गाइडलाइन जारी की है। घर की सुविधा का लाभ प्रदेश में उन्हीं लोगों को प्रदान की जा रही है जिनकी वार्षिक आय सीमा तीन लाख से अधिक नहीं है। इसके अलावा संबंधित व्यक्ति का खुद का पक्का घर भी नहीं होना चाहिए।

Subsidy will be available for loans of 6.5 percent for people belonging to income-class people, who get home loans from Rs 3 lakh to Rs 6 lakh annually. If a beneficiary takes more than this loan, then it will get a subsidy of 6.5 percent on loans up to Rs 6 lakh.

3 लाख से 6 लाख रुपए सालाना तक की आय वर्गवाले लोगों को होम लोन लेने पर 6.5 प्रतिशत की लोन पर सब्सिडी मिलेगी। अगर कोई लाभार्थी इससे अधिक लोन लेता है तो उसे 6 लाख रुपए तक के लोन पर 6.5 प्रतिशत की सब्सिडी मिलेगी।

The department will provide facilities to the 41 cities in which all the Municipal Corporations and Nagar Panchayats are included.

The cities in which the Plan of Action will be prepared are:

  • Rampur, Rohru, Thog, Paonta, Ghumarvi, Naina Devi, Nerchauk, Sundernagar, Manali, Santokhgarh, Sujhanpur, Dehra, Kangra, Noorpur, Nagrota, Palampur, Dubal, Kotkhai, Narkanda, Sunni, Arki, Rajgarh, Bhota, Nadun, Talai, Jogindranagar, Karsog, Sarkaghat, Rivalsar, Bhuntar, Banjar, Daulatpur, Gagret, Mehatpur, Tahliwal, Baijnath, Paprola and Jawalji are included.

विभाग जिन 41 शहरों के लोगों को घर की सुविधा प्रदान करेगा उसमें नगर निगम और नगर पंचायत सभी शामिल हैं। विभाग जिन शहरों के लिए प्लान ऑफ एक्शन तैयार करेगा उसमें रामपुर, रोहड़ू, ठियोग, पांवटा, घुमारवीं, नैना देवी, नेरचौक, सुंदरनगर, मनाली, संतोखगढ़, सुजानपुर, देहरा, ज्वालामुखी, कांगड़ा, नूरपुर, नगरोटा, पालमपुर, दुब्बल, कोटखाई, नारकंडा, सुन्नी, अर्की, राजगढ़, भोटा, नादौन, तलाई, जोगिंद्रनगर, करसोग, सरकाघाट, रिवालसर, भुंतर, बंजार, दौलतपुर, गगरेट, मेहतपुर, टाहलीवाल, बैजनाथ, पपरोला और ज्वालाजी शामिल हैं।

Click here to Download the Application Form

Click here for Online Registartion

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *