Jan Aushadhi Yojana / प्रधानमंत्री जन औषधि योजना: Apply Online and Full Details

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना भारत के प्रधानमंत्री ‪नरेन्द्र मोदी‬ द्वारा ‬घोषित एक योजना है। इस योजना में सरकार द्वारा उच्च गुणमवत्ता वाली जैनरिक (Generic) दवाईयों के दाम बाजार मूल्य से कम किए जा रहें है। सरकार द्वारा ‘जन औषधि स्टोर’ बनाए गए है, जहां जेनरिक दवाईयां उपलब्ध करवाई जा रही है। Follow details to know more:

यह परियोजना उन लोगों के लिये बहुत महत्वपूर्ण है जिनकी कमाई का आधा हिस्सा दवाइयों के खर्च पर निकल जाता हैI अब ये लोग जन औषधि केंद्रों से सस्ते में दवाईएं ले सकते हैंI

अभी तक इस परियोजना को अब सरकार बड़े पयमाने पर ले जाने का विचार कर चुकी हैI इसे गांव और छोटे शहरों तक पहुचाने का काम शुरू किया किया जा सकता है और जन औषधि केंद्र को खोलने के लिए भी सरकार मदद प्रदान कर रही हैI

Click here to visit Official website

जेनरिक दवाईयां ब्रांडेड या फार्मा की दवाईयों के मुकाबले सस्ती होती है, जबकि प्रभावशाली उनके बराबर ही होती है। प्रधानमंत्री जन औषधि अभियान मूलत: जनता को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया हैं ताकि जनता समझ सके कि ब्रांडेड मेडिसिन की तुलना में जेनेरिक मेडिसिन कम मूल्य पर उपलब्ध हैं साथ ही इसकी क्वालिटी में किसी तरह की कमी नहीं हैं। साथ ही यह जेनेरिक दवायें मार्केट में मौजूद हैं जिन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता हैं।

इस योजना में आम नागरिकों को बाजार से 60 से 70 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां मुहैया कराने के उद्देश्य से केंद्र सरकार जल्द ही देशभर में 3000 से ज्यादा जन औषधि केंद्र खोलेगी। Forms can be download from given links below:

Total number of Stores till March 2017:

Guidelines for Opening of New Jan Aushadhi Store:

Guidelines for Opening of Jan Aushadhi Store for different category

7 thoughts on “Jan Aushadhi Yojana / प्रधानमंत्री जन औषधि योजना: Apply Online and Full Details

  1. Anshuman Bhattacharjee

    Dear sir applied for Generic medicine store for SMCH SILCHAR but sorry to say I being the President of gbkie.NGO went to meet the principal SMCH and gave an application along with online applied receipt she kept the file for one month in her table after several inquiries she sent the file to DME Assam there the file was kept for 20 days now it has gone to health ministry Assam But the Deputy speaker of Assam Sir Dililp Kumar paul helped us in all this hurdles as we have a link My question is if the medical system doesn’t know then what is the purposes of spending so much money in maniram dewan for 2 day awareness (?)

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *